Thursday, 16 June 2016

Vidveshan Mantra

विद्वेषण मन्त्र (Vidveshan Mantra)
Vidveshan Mantra is used to create enmity between two or more individuals to make them apart and go away from each other. It is advised to use this kind of mantra to take your right when someone has snatched it. 

Om namoh adesh guru satya naam ko. Bara sarso tera raai. 
Baat ki mithi, masaan ki chhaai
patak marukar jalwar, amuk phute na dekhe amuk ka dwar
meri bhakti, guru ki shakti, phuro mantra ishwaro vacha.

(ॐ नमो आदेश गुरु सत्य नाम को। १२ सरसों १३ राई । 
बाट की मिठी, मसाण की छाई । 
पटक मारू कर जलवार । अमुक १ फूटे न देखे अमुक २ का द्वार । 
मेरी भक्ति, गुरु की शक्ति। फुरो मन्त्र ईश्वरोवाचा । )

विधि : थोड़ी पीली सरसों, राई और मेथी, आम तथा ठाक वृक्ष की सुखी लकड़ी ले आएं और फिर शमशान में जाकर किसी चिता की राख ले आयें । एकत्रित लकड़ियों से हवन करें तथा शेष सामग्री को मिलाकर उक्त मन्त्र  को पढ़ते हुए १०८ आहुतियां दें । (अमुक १) तथा (अमुक २) के स्थान पर दोनों व्यक्तियों का नाम लें । शीघ्र वांछित परिणाम प्राप्त होगा ।  




2 comments:

  1. Sir,
    Is this the complete sadhna? Or more have to do ,I m from Maharashtra

    ReplyDelete
  2. This is not a sadhna but a powerful tantra use.

    ReplyDelete

Guru Gorakhnath Sarbhanga (Janjira) Mantra

गुरु गोरखनाथ का सरभंगा (जञ्जीरा) मन्त्र  “ॐ गुरुजी में सरभंगी सबका संगी, दूध-मास का इक-रणगी, अमर में एक तमर दरसे, तमर में एक झाँई, झाँ...